ITS Full Form in Hindi

ITS Full Form in Hindi: आईटीएस की फुल फॉर्म क्या होती है? आईटीएस क्या है? आईटीएस ऑफीसर कैसे बनें, आदि की डिटेल में जानकारी।

दोस्तों आप लोगों ने आईटीएस नाम काफी सुना होगा, लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसका फुल फॉर्म क्या होता है। अगर नही मालूम है तो इस लेख में आपको ITS से जुड़ी सारी जानकारी मिल जाएगी। चलिये सबसे पहले आईटीएस का फुल फॉर्म आपको बताते हैं।

ITS Full Form in Hindi

आईटीएस की फुल फॉर्म इंडियन ट्रेड सर्विस होती है। हिंदी में इसको भारतीय व्यापार सेवा कहते हैं।

I: Indian
T: Trade
S: Service

What is ITS in Hindi

भारतीय व्यापार सेवा (ITS) समूह ए की एक सिविल सेवा है। इसको 1965 में बनाया गया था। इसका मुख्य उद्देश्य भारत के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और वाणिज्य को संभालना था।

ये भी पढ़ें: IAS फुल फॉर्म इन हिंदी

Work of ITS in Hindi

आईटीएस का काम भारत के व्यापार के त्वरित विकास के लिए सक्षम वातावरण और बुनियादी ढांचे के निर्माण को सुविधाजनक बनाना ही मकसद है। आईटीएस विभाग के द्वारा बहुपक्षीय, क्षेत्रीय और द्विपक्षीय स्तरों पर बाहरी व्यापार वार्ता और व्यापार समझौतों पर बातचीत की जाती है। इसके कुछ प्रमुख कार्य निम्न हैं।

विदेश व्यापार नीति निर्माण
अंतर्राष्ट्रीय व्यापार वार्ता
विदेश व्यापार नीति कार्यान्वयन
व्यापार कूटनीति
व्यापार विवाद निपटान
संवर्धन गतिविधियाँ (निर्यात बंधु)
प्रशिक्षण और विकास के माध्यम से निर्यात

Who is ITS Officer in Hindi

आईटीएस ऑफिसर एक आईएएस रैंक का अधिकारी होता है, जो भारत के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और वाणिज्य को संभालने का काम करता है।

ITS Officer kaise bane

आईटीएस ऑफिसर बनने के लिए कैंडिडेट को यूपीएससी के द्वारा आयोजित किया जाने वाला सिविल सर्विसेज एग्जाम देना पड़ता है। इसके लिए कैंडिडेट की उम्र कम से कम 21 साल होनी चाहिए और कैंडिडेट ने किसी भी स्ट्रीम या सब्जेक्ट से ग्रेजुएशन किया होना चाहिए।

ये भी पढ़ें: यूपीएससी फुल फॉर्म इन हिंदी

इसके बाद कैंडिडेट को यूपीपीएससी एग्जाम में अप्लाई करना होगा। फिर कैंडिडेट को सबसे पहले प्री एग्जाम पास करना होगा। जितने कैंडिडेट प्री एग्जाम पास कर लेते हैं, उनको फिर मेंस एग्जाम देना पड़ता है। इसके बाद जितने भी कैंडिडेट मेंस एग्जाम क्वालीफाई करते हैं उनको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। सारे एग्जाम के स्टेप्स पास करने के बाद एक फाइनल मेरिट तैयार की जाती है. इसी मेरिट के आधार पर कैंडिडेट को रैंक मिलती है। फिर रैंक के अनुसार को IAS, IPS, आईएफएस, आईआरएस और ITS अधिकारी बनता है।

आईटीएस अधिकारी की भूमिका?

ITS अधिकारी भारत के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार नीति निर्माण में अहम योगदान करते हैं। भारतीय व्यापार सेवा के अधिकारी इस विभाग की नीति के निर्माण और प्रारूपण में शामिल होते हैं। अंतरराष्ट्रीय व्यापार मामलों में वे क्षेत्रीय कार्यालयों से महत्वपूर्ण इनपुट भी प्रदान करते हैं । जिनको बाद में नीति बनाने के दौरान समीक्षा के लिए लिया जाता है।

देश के लिए व्यापार नीति बनाने के अलावा, ये आईटीएस अधिकारी विश्व व्यापार संगठन जैसे महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भी व्यापार मामलों पर स्टैंड लेने के लिए विभिन्न मंत्रालयों के साथ समन्वय में भी शामिल रहते हैं। अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के नीति निर्माण क्षेत्र में अंतरराज्यीय और केंद्र सरकार के परामर्श हेतु व्यापार बोर्ड के समन्वय का प्रबंधन आईटीएस अधिकारियों द्वारा ही किया जाता है।

Other ITS Full Form in Hindi

Indian Trade System
I Thought So
International Trade Service
Indian Teaching Service
Index of Temporal Stability
Infantile Tremor Syndrome
Inferior Temporal Sulcus
Interrupted Time Series
Iterative Two-Stage
Idiopathic Tracheal Stenosis
Image Transfer System
Immune Targeting Systems
Independent Tribunal Service

उम्मीद है ITS Full Form in Hindi ये लेख आपको पसंद आया होगा, क्योंकि इस लेख में मैंने ITS से जुड़ी सारी जानकारी उपलब्ध कराई है। अगर इस आर्टिकल को लेकर आपके अंदर कोई भी सवाल या सुझाव हैं तो आप कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं।

Leave a Comment